बस लिखता चला गया

लो कलम उठाई और चलता चला गया
दिल की गहराईयों से
बस लिखता चला गया।

न कोई सीमा देखी
न देखा कोई छोर,
ज़िन्दगी में अपने देखे
मैंने कई मोड़।
हर एक उतार चढ़ाव में संभलता चला गया
बस लिखता चला गया।

Advertisements

2 thoughts on “बस लिखता चला गया

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s