धन्यवाद शिक्षक

किताबे नहीं थी वह सिर्फ,
दुनिया का दरवाज़ा था।
बच्चे थे हम तो
हमें भी क्या अंदाज़ा था।
मौज – मस्ती में अक्सर हम
पढाई तो स्कूल आने का बस बहाना था।
सोच रहा हूँ होते अगर न शिक्षक
आप जैसे आज
तो मुझसा नन्हा विद्यार्थी
लिखता कैसे यह चंद अल्फ़ाज़।

Advertisements

One thought on “धन्यवाद शिक्षक

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s