ऐ खुदा

कुछ भी न सूझ रहा
आजकल तो दिल भी
न कुछ पूछ रहा।
वक़्त ने ऐसा सबक सिखाया
ज़ुबाँ होते भी कुछ न कह पाया।

ऐ खुदा,
यह कैसा तेरा इम्तहाँ है
इस मासूम दिल में
बस एक ही तो जान है।
इबादत करुँ तो क्या
बाकी न कोई अरमान है
इश्क़ ही मेरा मज़हब
इश्क़ ही गीता, कुरान है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s