असहनशीलता – मंगल में जंगल

जिधर देखो उधर ही जंग है
‘असहनशीलता ‘ शब्द नया ही दबंग है ।
हर कोई एक प्रचारक है
पर कोई न
समाज सुधारक है।
आतंक के साये में यह दुनिया बेहाल है
फिर भी फ़िज़ूल मचा रखा यहाँ
शब्दों का बवाल है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s