ज़ज़्बातो का ज़ख्म

हम तो मिटटी के बने थे
हर दिन गिरते ,
बेवजह टूटते थे ।
दुनिया के सितम रोज़ ज़ज़्बात लुटते थे ।

आज इस मोड पर खड़े हैं
ज़ज़्बात है, पर मरे हैं ।
बोलता था जो दिल
आज बेजुबान है ।
कौन कमबख्त कहता
भला बदलना आसान है ।

Advertisements

One thought on “ज़ज़्बातो का ज़ख्म

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s