वक़्त …..ऐ वक़्त !

यह कैसा इलज़ाम है
या वक़्त का पैगाम है ।
बैठे थें सपने संजोए
जिस वक़्त की चाह में
गुज़र गया वह वक़्त
सिर्फ वक़्त की राह में ।

फासला देखो वक़्त का
वक़्त से ही हो गया
वक़्त का सपना
वक़्त में कही खो गया।

Advertisements

2 thoughts on “वक़्त …..ऐ वक़्त !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s